राष्ट्रिय बैठक सम्पन्न - Vishwa Hindu Parishad Nepal

Trending Now

Vishwa Hindu Parishad Nepal

"MAM DIKSHA HINDU RAKSHA, MAM MANTRA SAMANTA"

Post Top Ad

Post Top Ad

Friday, October 20, 2017

राष्ट्रिय बैठक सम्पन्न

राजाराम दास 

१३ अक्टोबर, काठमाण्डू । विश्व हिन्दू परिषद नेपाल की एक दिवसीय राष्ट्रिय बैठक काठमाण्डू स्थित राष्ट्रिय कार्यालय में सम्पन्न हुई। बैठक में परिषद के राष्ट्रिय उपाध्यक्ष श्री टिका बहादुर, महासचिव श्री उद्धव कुमार घिमिरे, नेपाल प्रभारी मा.स्नेहपाल सिंह, सन्त श्री सौरभनाथ जी लगायत
राष्ट्रिय कार्यकारिणी के सभी पदाधिकारीगण, जिलाध्यक्ष, हिन्दू युवा परिषद के पदाधिकारी एवं पूर्णकालिक कार्यकर्ताओं की मौजुदगी  रही ।


तिन सत्र में चला यह बैठक में संगठन विस्तार, प्रदेश समिति निर्माण, समसामयिक राजनैतिक अवस्था, राष्ट्रिय समिति पुनर्गठन लगायत के विविध विषयों पर विचार विमर्श हुई ।

बैठक ने गहण विचार विमर्श पश्चात निम्न अनुसार के राष्ट्रीय कार्यकारिणी समिति गठन किया है ।
१. डा. शशी कुमार थापा संरक्षक
२. श्री रामनरेश सिंह               ट्रस्टी
२. श्री टिका बहादुर पहारी        अध्यक्ष
३. श्री विन्देश्वर प्रसाद यादव उपाध्यक्ष
४. श्री उद्धव कुमार घिमिरे         उपाध्यक्ष
५. श्री काशिन्द्र यादव               उपाध्यक्ष
६. श्री जितेन्द्र सिंह                    महासचिव
७. श्री विजय सिंह                     सचिव
८. श्री दीपक लोध                    सचिव
९. श्री रवीन अधिकारी कोषाध्यक्ष
१०.श्री ठाकुर बराल                  सदस्य
११. श्री विरेन्द्र बुढाथोकी सदस्य
१२. श्री हेमराज कोईराला          सदस्य
१३. श्री सुशीलचन्द अधिकारी सदस्य
१४. श्री विश्वनाथ रेग्मी              सदस्य
१५. श्री विष्णु नारायण श्रेष्ठ         सदस्य
१६. श्री नारायण यादव सदस्य
१७. श्री सत्यनारायण बंग           सदस्य
१८. श्री राजन उपाध्याय सदस्य
१९. श्री भीकमचन्द सरल          सदस्य
२०. श्री अमर सुब्बा                  सदस्य
२१. श्री लाल बहादुर बोगटी        सदस्य
२२. श्री रामहरि नेपाल सदस्य
२३. श्री राधेश्याम शर्मा सदस्य
२४. पं.राम कुमार यादव शास्त्री सदस्य
२५. श्री राम नारायण ठाकुर सदस्य
२६. श्री विकास तिवारी विशेष आमन्त्रित सदस्य
२७. श्री खेमनाथ आचार्य आमन्त्रित सदस्य

साथ ही साथ बैठक में रोहिंग्या मुसलमानों के विषय में भी गम्भिर विचार विमर्श हुआ और नेपाल सरकारको ज्ञापन पत्र भी दिया गया ।